Rajasthan Kisan Festival: राजस्थान में 15 हजार करोड़ रुपए का कर्ज माफ

Google News Button

Rajasthan Kisan Festival राजस्थान किसान महोत्सव, जयपुर में तीन दिनों तक आयोजित हुआ, जिसमें मुख्यमंत्री और अन्य मंत्री मौजूद थे। किसान महोत्सव के समापन पर अशोक गहलोत  ने कहा कि राज्य सरकार का उद्देश्य किसानों और पशुपालकों को समृद्ध और खुशहाल बनाना है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत  ने जोर दिया कि किसानों और पशुपालकों को प्राथमिकता देते हुए नीतियों और कार्यक्रमों को तैयार किया गया है। बारह कृषि मिशनों की शुरुआत हुई है और इन कृषि मिशनों पर योजना और काम जारी है।

Read More-FCI Recruitment 2023: FCI में क्लर्क, चपरासी आदि के 11008 से अधिक पदों पर 10वीं 12वीं पास के लिए भर्ती प्रक्रिया

इस तरह से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विभिन्न पहलुओं पर बातचीत की। मुख्यमंत्री अशोक गेहलोत ने किसान महोत्सव के समापन पर भाषण दिया और कहा कि राज्य की प्रगति केवल किसानों की प्रगति के साथ होगी।

किसान कल्याण के लिए समर्पित किसानों के कल्याण के लिए राज्य सरकार ने कदम उठाए हैं। किसानों की आय को बढ़ाने के लिए विभिन्न प्रकार की योजनाएं चलाई जा रही हैं। किसानों को आगे बढ़ाने के लिए हर प्रयास किया जा रहा है।

किसान महोत्सव के दौरान, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार किसानों के कल्याण के लिए समर्पित रूप से काम कर रही है, इसका अभिप्रेत यह है कि राज्य सरकार पूरी तरह से किसानों के कल्याण के लिए काम कर रही है।

राज्य सरकार ने देश में पहली बार किसानों के विकास को ध्यान में रखते हुए एक अलग बजट प्रस्तुत किया। इस बार कृषि बजट पिछली बार की तुलना में लगभग दोगुना हो गया है।

मुख्यमंत्री ने बताया कि किसानों को 2000 यूनिट तक मुफ्त कृषि बिजली के बिल मिल गए हैं। कृषि और खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में राज्य सरकार द्वारा 2 करोड़ रुपये तक की सब्सिडी प्रदान की जा रही है।

राज्य सरकार ने युवा उद्यमियों के लिए एमएसएमई अधिनियम भी पेश किया है, जिसमें सरकार से आवश्यक अनुमतियों की स्थापना के लिए 5 साल की राहत दी जाती है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत  ने बताया है कि राज्य में कुल 60 कृषि महाविद्यालय हैं, जिनमें से 42 को पिछले साढ़े चार साल में स्थापित किया गये  है।

पशुपालकों के पक्ष में संवेदनशील निर्णय मुख्यमंत्री अशोक गहलोत  ने राज्य में पशुपालकों के लिए राहत की खबर साझा की। उन्होंने लम्पी रोग से मारे गए गायों के पशुपालको  को 40 हजार रुपये की राशि प्रदान की है।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now

राज्य सरकार ने लम्पी रोग के कारण अपनी गायों को खो चुके सभी पशुपालकों को 40 हजार रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की है। मुख्यमंत्री अशोक गेहलोत ने बताया है कि राज्य में लगभग 42 हजार किसानों के खातों में लगभग 176 करोड़ रुपये के ट्रांसफर हो चुके हैं।

राजस्थान देश का पहला राज्य बन गया है जिसने यह कदम उठाया है। मुख्यमंत्री ने बताया है कि  दूध देने वालेदो दुधारू  पशुओं के लिए प्रत्येक की बीमा 40 हजार रुपये प्रदान की जा रही है। इसके अलावा, दूध उत्पादन पर 1 लीटर के लिए 5 रुपये की सब्सिडी दी जाती है।

अब राजस्थान दूध उत्पादन में शीर्ष स्थान प्राप्त कर चुका है। मुख्यमंत्री अशोक गेहलोत ने राज्य सरकार की इच्छा व्यक्त की है कि अमूल की तरह राष्ट्रीय स्तर पर राज्य की ब्रांड “सरस” स्थापित की जाए।

राज्य सरकार की योजनाओं के लिए मुख्यमंत्री अशोक गेहलोत ने कहा है कि राज्य सरकार द्वारा लागू की जाने वाली योजनाओं को पूरे देश में प्रशंसा मिल रही है। राज्य नई विकास कार्यों में सक्रिय रूप से संलग्न है।

किसानों और पशुपालकों को अधिकतम लाभ प्रदान करने के लक्ष्य के साथ राज्य सरकार कार्यक्रमों के सुचारू चलन और विस्तार को सुनिश्चित करने के लिए काम कर रही है।

मुख्यमंत्री ने बताया है कि राज्य सरकार द्वारा एक से अधिक करोड़ पेंशनभोगियों को एक हजार रुपये की न्यूनतम पेंशन प्रदान की जाती है, साथ ही वार्षिक रूप से 15 प्रतिशत वृद्धि होती है। स्वास्थ्य के अधिकार के तहत, राज्य की जनता को स्वास्थ्य का अधिकार प्रदान किया गया है।

कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने कहा है कि पिछले चार और आधे साल में राज्य सरकार ने किसानों और पशुपालकों को लाभ पहुंचाने के लिए कई योजनाएं कार्यान्वित की हैं, जिससे उन्हें स्वावलंबी, सशक्त बनाने और आय बढ़ाने की सुविधा मिली है।   

पोस्ट का नामRajasthan Kisan Festival
व्हाट्सएप ग्रुपयहां से जॉइन करें
टेलीग्राम ग्रुपयहां से जॉइन करें
अन्य जानकारीयहां से देखें
Rajasthan Kisan Festival

Leave a Comment